शुक्रवार, 1 मई 2009

इतिहास क्या है


इतिहास तो दरअसल माँ के पहले दूध की तरह है
जिसकी सही खूराक पैदा करती हमारे भीतर
मुसीबतों से लडने की ताकत
दुख सहन करने की क्षमता देती जो
जीवन की समझ बनाती है वह
हमारे होने का अर्थ बताती है हमें
हमारी पहचान कराती जो हमीं से

SAMPADAK GYANRANJAN DWARA "PAHAL"PUSTIKA KE ANTARGAT PRAKASHIT SHARAD KOKAS KI LAMBI KAVITA "PURATATVAVETTA" SE

1 टिप्पणी:

  1. sharad bhai sahab ko bahut bahut dhanyawad
    abhi apke gyan roopi mahasagar se ek boond
    pan kar paya mai abhi bahut kuchh baki hai

    उत्तर देंहटाएं